अनिल कपूर: कई लोगों को लगा कि मैं नहीं कर पाऊंगा--- मूछें, छोटी आंखें, लंबे बाल, पतला

बॉलीवुड स्टार अनिल कपूर 35 सालों से बॉलीवुड इंडस्ट्री में काम कर रहे हैं और आज भी वो नौजवान एक्टर्स को बराबर की टक्कर देते हैं. उन्हें फैन्स और क्रिटिक्स दोनों का प्यार मिलता है

134 Reads |  

अनिल कपूर: कई लोगों को लगा कि मैं नहीं कर पाऊंगा--- मूछें, छोटी आंखें, लंबे बाल, पतला

बॉलीवुड स्टार अनिल कपूर 35 सालों से बॉलीवुड इंडस्ट्री में काम कर रहे हैं और आज भी वो नौजवान एक्टर्स को बराबर की टक्कर देते हैं. उन्हें फैन्स और क्रिटिक्स दोनों का प्यार मिलता है. फिल्म में उनकी एंट्री होने पर आज भी थिएटर में सीटियां बजती हैं. इस ख़ास मौके पर हमने अनिल कपूर से मंगलवार को मुलकात की.

ऐसी रही हमारे बीच बातचीत.

आप रुकते नहीं क्या?

तू रुका है?

फिर भी?

तू रुका है? बोल ना?

आपकी उम्र कितनी थी जब आपने एक्टर बनने के बारे में सोचा?

जब से मैंने अपना होश संभाला है. यकीन मानो, मैं ऑडिशन के लिए गया और सिलेक्ट हो गया. मुझे बुरा लगता है जब लोग कंफ्यूज होते हैं और ये तय नहीं कर पाते कि उन्हें क्या करना है.

क्या आप अकादमिक में रूचि रखते थे?

मैं पास होना चाहता था, मैं किसी को भी परेशान नहीं करना चाहता था- माता-पिता या शिक्षकों को. मुझे अपने सपने को साकार करने के लिए किसी को भी परेशान क्यों करना चाहिए? लेकिन हां, मैं स्पष्ट था कि मैं केवल एक अभिनेता बनना चाहता हूं. मैं अपर्णा सेन, श्याम बेनेगल, मणिरत्नम, मृणाल सेन के पास गया और मुझे काम मिला.

इतना आसान नहीं था, जब तक आपको शक्ति में नोटिस नहीं किया गया. क्या मैं सही हूं?

बिलकुल, लेकिन क्या आप जानते हैं कि मैंने शक्ति कैसे की? वो 7 दीन तैयार था, लेकिन मैं गया और शक्ति में एक छोटी भूमिका के लिए शूट किया. मैंने दिलीप साहब और अमिताभ बच्चन को एक साथ कहा, मुझे इस तरह का एक और मौका कब मिलेगा?

वाह 7 दीन ने आपके लिए अच्छा किया. आप इसमें शानदार थे...

हम (भाई बोनी और अनिल) उसमें अनिल कपूर को नहीं बेच रहे थे. हम विषय बेच रहे थे. कहानी अन्दर तक मजबूत थी. लोगों ने हमें उस भूमिका में संजीव कुमार को लेने की सिफारिश की, लेकिन मैंने कहा कि मैं कर लुंगा.

संजय दत्त, जैकी श्रॉफ और सनी देओल के विपरीत आपका लुक था... आपने बड़ा कदम उठाया.

(हांमी भरते हुए) मेरे लिए, मैंने कड़ी मेहनत पर ध्यान दिया. मैं कांफिडेंट था. अंदर से मुझे कभी अपने बारे में कोई संदेह नहीं था. आज, ऐसे लोग हैं जो आते हैं स्वीकार करते हुए कहते हैं कि उन्हें लगा था कि मैं एक हीरो नहीं बन पाऊंगा. उन्होंने सोचा होगा- मूछें, छोटी आंखें, लंबे बाल, पतला..

क्या इस वजह से आप डिमोटिवेट हुए?

अरे सुनता कौन था? मैंने उन लोगों को कभी सीरियसली नहीं लिया.

आपके डांस स्टेप ने देश में तूफान ला दिया था...

खैर, मैंने वास्तव में उनका आविष्कार नहीं किया था. वे भगवान दादा के स्टेप्स थे, यह शैली महाराष्ट्र में पैदा हुए अधिकांश लोगों में होती है --- जैसे कि हम गणेश महोत्सव, होली इत्यादि में डांस करते हैं. तो थोडा मेरे में था और थोडा नहीं था. धीरे धीरे अपने को पॉलिश करता गया.

और फिर यशराज फिल्म्स की मशाल आई. क्या इसने आपको वो दिया जिसकी आपने आशा की थी?

हां. पत्रिकाओं ने मुझे कवर पर रखा था. एक ने लिखा: एक स्टार पैदा हुआ है. हालांकि फिल्म ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया. वैसे, फिरोज खान और सुभाष घई ने मुझे माशाल के प्रीमियर में जानबाज और राम लखन के लिए साइन अप किया. उन दिनों, फिल्म निर्माताओं ने जोखिम उठाया.

एक वो दिन थे. मुझे याद आता है.. पहले के एक्टर्स को मल्टी- स्टारकास्ट वाली फिल्म करने में हर्ज नहीं होता था लेकिन आज के एक्टर्स इससे दूर भागते हैं.

मुझे लगता है कि वो लोग ही इस सवाल का जवाब दे सकते हैं. मैं नहीं जानता कि वो कैसे सोचते हैं. लेकिन हां, अच्छी स्क्रिप्ट्स हैं जिसका हिस्सा होना चाहिए. कभी भूमिका छोटा होगी, कभी बड़ी होगी, आपको अपना पैसा मिलता है, आपकी भूमिका अच्छी है --- आपको परेशान क्यों होना चाहिए? किसी को भी स्क्रिप्ट द्वारा जाना चाहिए, न कि एक फिल्म के नायकों की संख्या से. मुझे उन फिल्मों में काम करने में कोई समस्या नहीं थी, जिसमें मेरे साथ कई एक्टर्स थे.

जैकी श्रॉफ आपके असली दोस्त थे, या वह प्रतिद्वंद्वी था?

अग्रर 100 फैन्स सेट पर आते थे तो उसमें से 95 उनके पास जाते थे और केवल 5 मेरे पास आते थे.

क्यों?

वह एक बड़े स्टार थे. अंदर बाहर, युद्ध... वो उनके नाम पर बेचे गए थे और मैंने फिल्म में मूल्य जोड़ा.. लेकिन इसका बावजूद कि वह क्या थे,  हमारा रिश्ता बहुत बराबर स्तर पर था. उनके साथ मेरा एक कनेक्ट था--- मैं चेम्बूर से था, वह तीन बत्ती से थे. मैं कहूंगा कि हमारे बीच कम्पटीशन बहुत हेल्थी था, वर्ना क्या हमने 12 फिल्मों की होती एक साथ?

आपने अपने करियर में कमजोर दौर में कैसे डील किया?

इतना कभी कमजोर नहीं हुआ क्योंकि मैं अच्छे निर्देशकों के साथ काम कर रहा था, और यदि कभी एक या दो फिल्में असफल रहती तो हमेशा आगे बढ़ने के लिए नई फिल्मों की एक अच्छी संख्या थी.

लोग मेरे साथ काम करना चाहते थे. लेकिन रूप की रानी चोरों का राजा फ्लॉप होने के बाद, मैंने पहलाज निहलानी के साथ दो फिल्में साइन की.

आप निहलानी के साथ क्यों काम नहीं करेंगे?

मुझे लगा कि मुझे वह फिल्म नहीं करनी चाहिए जो वह बना रहे थे. उनके खिलाफ कुछ भी नहीं, वह एक महान मित्र है, वह उद्योग में सबसे अच्छे लोगों में से एक है.

मैं इस सवाल को भूल गया होता लेकिन अब जबकि आपने निहलानी का नाम लिया है, तो मैं पूछता हूं: क्या आपको उनकी अंदाज़ करनी चाहिए थी जिसमें दो बेहद डबल अर्थ वाले गीत थे?

जब हमने फिल्म साइन की तो हमें उन गानों के बारे में पता नहीं था. न तो जूही चावला और न ही करिश्मा कपूर और न ही खुद... झगड़ा किया, शूटिंग रुक गयी. हमने कहा हम नहीं करेंगे लेकिन पहलाज अड़े हुए थे- छोड दो फिल्म, बंद कर दो. क्या करते? एक कमिटमेंट थी.

ये बुरा दौर लंबे होता तो कौन आपके दोस्त होते?

आपको ऐसी स्थिति में खुद ही अपनी मदद करनी होती है.

लेकिन आपके पास कई दोस्त हैं. सोनम की शादी एक क्लासिक प्वाइंट थी. आपके पास ऐसी गुडविल है कि बॉलीवुड का हर व्यक्ति पहुंचा था...

मैंने किसीका बुरा नहीं चाहा है. मैंने लोगों से प्यार किया है. मैंने उनमें निवेश किया है. मुझे लगता है कि मैं सिर्फ फसल काट रहा हूं.

आपके घर में 40-45 लोगों का स्टाफ है..

मैं लोगों में इंवेस्ट करता हूं. मैं क्यों उन्हें निकालू. मेरा हेयरस्टाइलिस्ट और मेरा ड्राईवर मेरे साथ तब से हैं जब सोनम का जन्म भी नहीं हुआ था. मैं हायर और फायर में विश्वास नहीं रखता.

महत्वपूर्ण सवाल आ रहा है. आप आज तक प्रासंगिक कैसे रह सकते हैं? कई बुजुर्ग कलाकार अपने बालों को रंगाने से इनकार करते हैं, वे अभी भी युवा दिखना चाहते हैं. और आप रेस 3 में सफेद दाढ़ी में नजर आ रहे हैं.

(हंसते हुए) क्या यह सेक्सी नहीं दिख रहा था? बहुत से लोगों ने मुझे बताया है कि यह सेक्सी लग रहा है, यह बहुत अच्छा लग रहा था.

क्या आप फैशन कॉनशियस हैं?

मुझे ड्रेस अप करना अच्छा लगता है. मेरे मिस्टर इंडिया, फने खान, वो 7 दीन के कुछ कपडे चोर बाज़ार से भी आए हैं.

कभी सुना या पढ़ा नहीं कि आपने फिल्म असफल होने पर निदेशक को दोषी ठहराया हो.

अगर मैंने एक फिल्म साइन की है, तो क्या मुझे खुद को जिम्मेदार नहीं ठहराना चाहिए अगर फिल्म अच्छा नहीं कर रही है तो. मैं खुली आंखों से फिल्म से जुड़ा तो दूसरे पर जिम्मेदारी डालने के क्या मतलब.

भावनात्मक कारणों के लिए फिल्में की हैं?

अनेक.

पैसे के लिए?

हां. रूप की रानी चोरों का राजा और प्रेम असफल रही और हम बुरी तरह से हिल गए. लेकिन समर्पण ने मुझे खींच लिया.

अब आप जीवन से और क्या चाहते हैं? क्या आप 70, 80, 85 ... की उम्र में भी एक्टिंग करेंगे?

यह तय नहीं कर सकता कि आगे मेरे लिए क्या रखा है? कल एक और दिन है.

Advertisement
Advertisement
  • Trending
  • Photos
  • Quickies