नेटफ्लिक्स पर भावेश जोशी को मिल रहा है जबरदस्त रिस्पांस, हर्षवर्धन कपूर की खुशी का ठिकाना नहीं

हर्षवर्धन कपूर की फिल्म भावेश जोशी भले ही बॉक्स ऑफिस बुरी तरह फ्लॉप हो गई हो लेकिन नेटफ्लिक्स पर इस फिल्म को जबरदस्त रिस्पांस मिल रहा हैं. ऐसे में हर्षवर्धन को ढेरों फोन कॉल्स और मैसेजस आ रहे हैं.

भावेश जोशी अब नेटफ्लिक्स पर हैं...

हांऔर मुझे बहुत खुशी है कि यह हुआ. मुझे लगता है कि नेटफ्लिक्स एक शानदार प्लेटफॉर्म है फिल्मो के लिए. जिसकी पहुंच दुनियाभर के दर्शकों के बीच है.

सुना है कि जब से आपको फिल्म नेटफ्लिक्स पर आयी है आपको बहुत प्रशंसा मिल रही है... 

ये सच है. भावेश जोशी में मेरे प्रदर्शन की सराहना करते हुए मुझे कई कॉल आए हैं. जब आपके काम की तारीफ होती है तो काफी अच्छा लगता है. इस फिल्म को नेटफ्लिक्स पर उसके दर्शक मिले हैं. 

क्या आपने नेटफिक्स पर भावेश जोशी को देखा है?

हां बिल्कुल. वह मेरी हाल में देखी गई फिल्मों की लिस्ट में शामिल हैं.

a

क्या कोई ऐसा सीन है जिसके बारें में बहुत ज्यादा तारीफ की गई हो. 

वास्तव में कई सारे हैं. संक्षेप में कहूं तो उन्हें फिल्म में मेरी पूरी जर्नी काफी पसंद आयी है. नेटफ्लिक्स पर फिल्म आने से फिल्म को काफी मदद मिली है. जब ये थियेटर में रिलीज हुई थी जब बहुत दर्शक इसे नहीं मिले थे. शायद मार्केटिंग इसी वजह हो सकती है. बहुत लोगों को इसके बारे में पता भी नहीं था. लेकिन हर फिल्म की अपनी ऑडियंस होती है. फिर चाहे वो बड़ी स्क्रीन हो या आज के वक्त में ये नेटफ्लिक्स जैसा प्लेटफॉर्म हो?  

क्या आपको लगता है कि भावेश जोशी इंटरनेट कंटेंट के हिसाब से बेहतर होता?

आपने एक एक बहुत ही रोचक सवाल पूछा है. मुझे लगता है हांमुझे लगता है इससे यहां एक बहुत बड़ा दर्शक वर्ग मिल जाएगा. पहले का कट 3 घंटे से अधिक लंबा थाऔर हमने इसे रिलीज़ करने से पहले इसे ढाई घंटे का बनाया था. क्या हुआ होता हमने छह 30 मिनट के अलग-अलग एपिसोड जारी किया होता तो

a

तोक्या आप इंटरनेट पर आनेवाले शो को करने के लिए तैयार हैं

निश्चित रूप से. वास्तव में अगर मेरे पास ऐसी कोई स्क्रिप्ट आती है जो ओटीटी (OTT) के अनुकूल है तो मुझे खुशी होगी. सच कहूं तो over-the-top content  का एक बड़ा मार्किट है इसकी डिमांड भी है. 

विदेश में वे ऐसे शो के बजट के बारे में नहीं सोचते हैं. उनके साथ कोई समझौता नहीं किया जाता है ...

हां, ऐसा भारत में भी होगा. वो सारे मिथक खत्म होने जा रहे हैं. सेक्रेड गेम्स को देखो, इसको कितने सुंदर तरीके से पेश किया गया हिया. अगर कहानी अच्छी है तो बजट मायने नहीं रह जाता. (रुकते हुए)

बोलते रहिए ...

भावेश जोशी एक ऐसी फिल्म है जिस पर मुझे हमेशा गर्व होगा. मैं ओटीटी शो के लिए ही नहींबल्कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए भी फिल्में भी करने के लिए तैयार हूं.

harshvardhan kapoor


ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आनेवाले कंटेंट के सेंसर होने की चिंता भी नहीं होती.

ये बात मुझे पसंद है. एक रेटिंग सिस्टम है बनाना चाहिए जैसा विदेश में हैं. किसी के रचनात्मक दृष्टि से नहीं खेलेना चाहिए. 

बिंद्रा आपको प्रशिक्षित करेंगे?

हां वह करेंगे. लेकिन वह बाद के स्टेज में आएंगे. उससे पहले मुझे दूसरे ट्रेनर्स से ट्रेनिंग मिलेगी.

बिंद्रा बायोपिक के बाद क्या है?

मैं कई स्क्रिप्ट पढ़ रहा हूं. अगले कुछ दिनों में कुछ फाइनल कर लूंगा. मैं अभी फैसला करने के चरण में हूं.

RELATED NEWS