Exclusive: आलोक नाथ पर देखिए विनता नंदा का सबसे बेबाक इंटरव्यू

विनता नंदा ने बताया कि कैसे आलोक नाथ नवनीत निशान के पीछे पड़े थे रात को बिल्डिंग के नीचे पहुंच जाते और नीचे बुलाते थे. मेरे ऑफिस में आकर तमाशा खड़ा कर देते थे.

863 Reads |  

Exclusive: आलोक नाथ पर देखिए विनता नंदा का सबसे बेबाक इंटरव्यू
CINTAA के ऑफिस में क्या हुआ? 
मेरि फेसबुक पोस्ट के बाद CINTAA ने मुझसे संपर्क किया. मैंने उन्हें अच्छे से जानती हूं. उनसे मिलकर मैंने अपने आगे के एक्शन की बात की.

उनका क्या कहना था?
उन्होंने मुझे सलाह दी कि मुझे बड़े डायरेक्टरस और राइटर्स से संपर्क करना चाहिए. मैं IFTDA (Indian Film & Television Directors' Association) and Script-Writer' Associations से आती हूं.

क्या वो आलोक नाथ को कारण बताओ नोटिस भेज रहे हैं?
मुझे लगता है वो भेजेंगे.

मुझे खेद है मैं आपसे उस डरावनी घटना के बारे में दोबारा पूछ रहा हूं.
ये सब 19 साल पहले हुआ था. एक लंबे समय से मैं इसके लिए खुद को जिम्मेदार मानती रही. मैं क्यों स्मोक करती हूं, क्यों शराब पीती हूं? लड़कों के साथ क्यों बैठती हूं? अंत में मुझे लगा मुझे कोई जवाब नहीं मिल रहा है. मेरे अंदर के घाव नहीं भर रहे थे क्योंकि मुझे असाल्ट किया गया था. मेरे अंदर काफी उथल-पुथल मची हुई थी. एक वक्त आया जब मैं एक राइटर और डायरेक्टर के तौर पर काम नहीं कर पा रही थी. काफी समय बाद मुझे किसी तरह वाईट नॉइज़ फिल्म को डायरेक्ट करने का मौका मिला इसके लिए मैं महेश भट्ट का शुकिया करूंगी. फिल्म के प्रमोशन के दौरान मैंने उस वक्त तय किया कि मैं लोगों के बीच जाकर बताउंगी की मेरे साथ किया हुआ था.



फिर?
मैंने टाइम्स ग्रुप की उर्वशी अशेर से बात की उन्होंने उसे प्रमुखता देते हुए पब्लिश भी किया.  लेकिन हैरानगी की बात है कि इंडस्ट्री से कोई भी सामने नहीं आया. जिसके बाद मैंने डिटेल में एक मैगजीन में भी लिखा. लेकिन फिर भी इंडस्ट्री से कोई जवाब नहीं मिला. 

महेश भट्ट की तरफ से भी नहीं?
नहीं

हो सकता हैं उन्होंने पढ़ा ही ना हो?
संभवत उन्हें इसकी जानकारी ही नहीं थी. लेकिन मैं फोन करके उन्हें ये सब कैसे बता सकती थी. मैं पब्लिक में जा चुकी थी. मैं उन्हें या सोनी राजदान को ये नहीं कह सकती थी मैं पब्लिक में जा चुकी हूं. आप प्लीज इस डेट एडिशन देखकर पढ़ें.

वाईट नॉइज़ की रिलीज के बाद क्या हुआ? 
इसकी रिलीज के बाद जहां भी मैंने काम मांगा मुझे नहीं मिला. सभी को लग रहा था ये हमारी बात लेकर चली जाएगी. आखिरकार हम ऐसी सोसाइटी में रहते हैं....

जहां सच्चाई की सराहना नहीं होती?
सही कहा, मेरे पास जी के 5 शोज थे सभी बेहतर कर रहे थे. मुझे नहीं पता जी के चंद्रप्रकाश द्विवेदी को मुझसे क्या समस्या हुई. आलोक नवनीत निशान के पीछे पड़े थे रात को बिल्डिंग के नीचे पहुंच जाते और नीचे बुलाते थे. मेरे ऑफिस में आकर मुझे तरह-तरह की बातें कह रहे थे. लेकिन दिवेदी ने हफ्ते बाद मुझे बुलाकर बोला गया कि शो में थकावट सी आ गई हैं. वो शिकायत करने लगे. मैंने अपने कदम पीछे खिंच लिए. उस समय तारा अच्छा कर रहा था. तब हमें लगा ये जो बोल रहे हैं वो करें. वो कहने लगे हमें कोई यंग तारा लेनी चाहिए. 

alok nath navneeth nishan

क्या नवनीत इसे सही से लिया?
नहीं, वो जानती थी क्या हो रहा है. वो उसका शो था. ये ऐसा था हम जो कह रहे हैं वो करों या निकलों.

फिर क्या हुआ? 
उसके बाद हमें कहा गया अलोक नाथ को वापस लो क्योंकि जी ने कहा है कि जनता उन्हें देखना चाहती है.

और आपने लिया?
तब तक मुझे लगा कि हमारे बीच सब ठीक हो गया हैं. उनकी वाइफ आशु हमारी अच्छी दोस्त थी. खुद अलोक भी. लेकिन हफ्ते के बाद जो हुआ उसने मुझे हैरान कर दिया.

Alok Nath with Wife Ashu Singh

क्या? 
हमें जी ने बुलाया और 2 घंटे बिठाकर रखा और फिर बेइज्जत किया.

क्या?
मुझे बताया गया कि मेरे शो लिए जा रहे हैं. मुझे उनसे जवाब चाहिए था. लेकिन जवाब मिला हम क्या कर सकते हैं दिखाएंगे आपको. जब मैंने बहस की तो हमें बाहर जाने के लिए कह दिया गया. लोगों को बुलाकर हमें बाहर फेकने के लिए कहा. मुझे कहा गया कि मैं अपने शो से देश की महिलाओं की गलत छवि दिखा रही हूं. लाइफ पूरी बदल गई थी. मेरे ऑफिस में 10 फोन थे जो रिंग होना बंद हो गए. 

आप इसके पीछे आलोक नाथ को मानती हैं?
मैं आपको सब एक साथ बता रही हूं. ऐसे ख्याल तो आते ही हैं ना. द्विवेदी कोई बाहरी नहीं थे. वो बॉलीवुड से थे. उस वक्त मदद नहीं जाती थी.

क्या आलोक नाथ और द्विवेदी क्लोज थे?
जी बिलकुल, वो दोनों काफी क्लोज थे.



क्या आप डिप्रेशन में चली गई थी. 
निश्चित तौर पर, काउंसलिंग और ट्रीटमेंट कुछ गलत नहीं है.

क्या अपने आसपास जाकर काम मांगने की कोशिश की?
आप जिसका भी नाम ले सभी के पास. लेकिन काम नहीं मिला. सब सुनते थे लेकिन काम नहीं देते थे. 

क्या आपको लगता है कि दुनिया आज आपके साथ हैं?
अविश्‍वसनीय ढंग से, मुझे अब भी याद हैं फेसबुक पोस्ट से पहले मेरी मां ने मुझे पीछे से पकड़ रखा था. मैं 7 अक्टूबर को ही पोस्ट करनेवाली थी लेकिन 8 अक्टूबर को किया.

vinta nanda

#METoo को लेकर लड़कियों के लिए आपका क्या संदेश है? 
आगे बढ़ो और अपनी कहानी बताओ, ज्यादा से ज्यादा जानकारी दो. मैं हैरान हूं हम साथ साथ है कि संध्या मृदुल और नारायणी शास्त्री ने आगे आकर अपनी बात रखी वो सेट पर सुबह शराब पीते थे. जब तक वो शराब नहीं पीते थे वो अच्छे रहते लेकिन नशे में वो एक शैतान थे.

Advertisement
Advertisement
  • Trending
  • Photos
  • Quickies