Video: फिल्म 'ओमेर्टा' पर देखिए राजकुमार राव का Exclusive इंटरव्यू

इस शुक्रवार राजकुमार राव की फिल्म ओमेर्टा रिलीज होने जा रही है. इस फिल्म को लेकर वो काफी उत्साहित हैं. इस फिल्म के लिए राजकुमार ने जी तोड़ मेहनत की हैं. लेकिन फिल्म के अलावा दूसरे टॉपिक पर भी इस एक्टर ने की ढेर सारी बातें




आपके करियर में काफी उछाल आया...

मैं अपनी यात्रा में अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहा हूं. ईमानदारी से कहूं, मैंने कभी ज्यादा नहीं मांगा था.

लेकिन कुछ महीने पहले तक आप ये सोच रहे थे कि आपको इतनी जल्दी इतनी सफलता मिलेगी?

बेशक, मैं झूठ नहीं बोलूंगा मैं बड़ी फिल्में नहीं करना चाहता जो अच्छा करें. दिलचस्प बात यह है कि, 2017 ने मुझे प्रशंसा और आलोचना दोनों को दिया.

बरेली की बर्फी और फने खान जैसी फिल्मों से आप मुख्यधारा की सिनेमा में आने का प्रयास कर रहे हैं?

ऐसा नहीं कह सकते हैं लेकिन हां, मैं जो कर रहा था मैं अब उसके आगे जाकर और भी काफी कुछ करना चाहते हूं. अगर आप समझ पा रहे हैं कि मेरा क्या मतलब है. एक लड़की को देखा, स्त्री और मेंटल है क्या जैसी फिल्में मेरे पास देखकर मुझे खुशी मिलती है.

Bareilly Ki Barfi AV


तो, फिल्मों के चयन के लिए मानदंड क्या है?

हर फिल्म में मेरे लिए कुछ करने के लिए नया होना चाहिए.

मैंने अपनी सभी स्क्रिप्ट पढ़ता हूं और अपना निर्णय लेता हूं. मैं बहुत ज्यादा भी नहीं सोचता. जो कहानी मुझे पसंद आती है उसे करता हूं. 

पैसा?

पैसा दूसरे नंबर पर आता है.

ओमेर्टा के लिए आप कह रहे हैं कि यह आज तक आपकी सबसे कठिन भूमिका है ....

फिल्म में केवल विरोधी है, कोई नायक नहीं है. इस बात को जानते हुए मैं इसके साथ जुड़ा. मुझे उमर सईद की दुनिया के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. मुझे विनाश के बारे में कोई जानकारी नहीं थी.  इसके लिए मैंने कई विचलित कर देने वाले वीडियो देखें ताकि वो नफरत और गुस्सा पैदा कर सकू.

इसके अलावा, मैंने जो चरित्र प्ले किया वह मेरे विपरीत है... इस रोल के लिए वजन कम करना पड़ा. और मैं दाढ़ी को कैसे भूल सकता हूं, जिसमें मुझे 3 महीने लग गए. अपनी आवाज के लिए मैंने लंदन में एक स्कूल को ज्वाइन किया ताकि मेरी आवाज दिल्ली के लड़के की तरह न लगे. 

raj image


हंसल मेहता के साथ आपका एक विशेष समीकरण है ...

मैं उन पर बहुत भरोसा करता हूं. इसी तरह, वह मुझ पर भरोसा करते हैं. आपको एक निडर निदेशक की आवश्यकता है जो ओमर्टा जैसी फिल्म को बढ़ावा देने के लिए विवादों का उपयोग नहीं करता. ओमेर्टा में कुछ भी फ़िल्मी नहीं हैं. हंसल मेहता ने मुझ पर काफी बड़ी जिम्मेदारी डाल दी थी.

क्या आपने 'ना' कहना सीखा है यदि आपको विषय पसंद नहीं है या कोई अन्य कारण है?

'ना' कहना बहुत मुश्किल है. मैं बहुत चिंतित हूं कि लोग इसे अच्छी तरह से नहीं लेंगे या नहीं. कुछ लोग समझ लेते हैं लेकिन कुछ लोग बुरा मान सकते हैं. लेकिन आपके सवाल का जवाब यह है कि मैंने अभी भी सही से ‘ना’ कहना नहीं सिखा है.

rajkummar rao


क्या आपने ऐसी फिल्में की हैं जिसे आपके दिमाग और दिल ने करने से मना किया था?

एक या दो, उन फिल्मों के नाम मत पूछिएगा. उस फिल्म में कुछ सीनियर लोग थे जो चाहते थे मैं उन फिल्मों को करूं. उन फिल्मों में मेरा रोल मुझे भी पसंद नहीं आया. लेकिन अच्छा हुआ कि यह हुआ, मैंने सबक सीखा.

RELATED NEWS