पुण्यतिथि विशेष: जगजीत सिंह की वो 7 गजलें जिससे वो हमेशा लोगों के दिलों में जिंदा रहेंगे

किसी से दिल लग गया हो या किसी ने दिल तोड़ दिया हो हर मर्ज का इलाज जगजीत सिंह के गाए गजलों में मिलता है. देखिए उनकी 7 बेहतरीन गजल.

10 अक्टूबर 2011 में मशहूर गजल गायक जगजीत सिंह का निधन हो गया. उन्हें गए आज भले ही 7 साल हो गए लेकिन उनके गाए गीतों से वो हमेशा ही हमारे बीच रहेंगे. इंसान किसी भी हाल हो जगजीत सिंह के गाए गीत हर मौके के लिए परफेक्ट होते है. यही वजह है कि उनके फैंस 18 साल से लेकर 80 साल तक के मिलेंगे. किसी से दिल लग गया हो या किसी ने दिल तोड़ दिया हो हर मर्ज का इलाज जगजीत सिंह के गाए गजलों में मिलता है.

 

गजलों को हमेशा से उर्दू के जानकारों की मिल्कियत समझी जाती थी लेकिन ये जगजीत सिंह का जादू था जो उन्होंने इसे आम लोगों के बीच तक पहुंचाया. जिससे गजल सुननेवालों की संख्या में जबरदस्त इजाफा हुआ है. जगजीत सिंह के पुण्यतिथि के मौके पर हम उनकी गायी 7 नजमों को आपके सामने पेश कर रहे हैं. जो हमेशा लोगों के दिल को छू लेती है और जब भी सुनी जाए हमेशा नई लगती हैं.

 

तुमको देखा तो ये ख्याल आया (साथ-साथ)


 

कोई फरियाद (तुम बिन)


 

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो (अर्थ)


 

होशवालों को खबर क्या (सरफरोश)


 

झुकी-झुकी सी नजर (अर्थ)


 

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे


 

चट्ठी ना कोई संदेश (दुश्मन) 


 

स्पॉटबॉय भी गजल किंग की इस पुण्यतिथि पर उन्हें याद कर उन्हें सलाम कर रहा है.

 

RELATED NEWS