हेपेटाइटिस-बी से पीड़ित महिलाओं के साथ होने वाले अन्याय के खिलाफ हमेशा लड़ते रहेंगे अमिताभ बच्चन

अमिताभ बच्चन ने बताया कि उन्हें कई ऐसी कहानियों के बारे में पता चला हैं जिसमें हेपेटाइटिस-बी से पीड़ित विवाहित महिलाओं को घर से बाहर निकाल दिया जाता है.

207 Reads |  

हेपेटाइटिस-बी से पीड़ित महिलाओं के साथ होने वाले अन्याय के खिलाफ हमेशा लड़ते रहेंगे अमिताभ बच्चन
बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन हर सोशल मीडिया कॉज के लिए हमेशा खड़े रहते हैं. बिग बी देश में हेपेटाइटिस-बी के खिलाफ जारी मुहीम का भी हिस्सा बने हुए हैं. ऐसे में अमिताभ बच्चन ने कहा है कि विवाहित महिलाओं को हेपेटाइटिस-बी के चलते घर से निकाल देने की कहानियां सामने आना दुर्भाग्यूपर्ण है. वह इस भेदभाव के खिलाफ हैं और कहा कि जब तक वह जीवित हैं, तब तक इसके खिलाफ लड़ते रहेंगे.

अमिताभ ने रविवार को महाराष्ट्र सरकार के मंत्री एकनाथ शिंदे के साथ भारत में वायरल हेपेटाइटिस से निपटने के लिए एक राष्ट्रीय कार्य योजना के शुभारंभ पर मीडिया को संबोधित किया. अमिताभ बच्चन ने कहा, "मुझे इस बड़े अभियान में दिलचस्पी थी कि भारत सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) सहित अन्य संगठन इससे निपटने के प्रयास कर रहे हैं. मेरे परिवार के डॉक्टर और उनके अन्य डॉक्टर दोस्तों ने मुझसे मुलाकात की और मुझे इस बारे में अवगत कराया कि इसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं."


उन्होंने कहा, "मैं जिस तरह से भी सहमत हो सकता था, तुरंत सहमत हो गया. दो चीजें थीं, जिन्होंने मुझे आकर्षित किया. पहली यह कि हेपेटाइटिस-बी के बारे में जानकारी का प्रसार करना..ज्यादातर लोग इस बीमारी के बारे में नहीं जानते, लेकिन यह जीवन के लिए खतरा है, इसलिए मुझे लगा कि भारत के नागरिक के रूप में इसके बारे में जागरूकता फैलाना मेरा कर्तव्य है."

उन्होंने जब बीमारियों के खिलाफ लड़ने की बात आती है तो महिलाओं के प्रति भेदभाव को देखकर उन्हें दुख होता है. अमिताभ ने कहा, "दूसरी बात जिसने मुझे हैरान और आहत किया, वह यह था कि विशेष रूप से महिलाओं के साथ भेदभाव किया जाना.. यह वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है कि मुझे ऐसी कहानियों के बारे में पता चला है जहां हेपेटाइटिस-बी से पीड़ित विवाहित महिलाओं को घर से बाहर निकाल दिया जाता है."

अभिनेता ने कहा, "महिलाएं देश की ताकत का आधा हिस्सा हैं. वे हमारे देश की ताकत हैं, इसलिए उनके साथ सम्मान और गरिमा के साथ व्यवहार करना चाहिए, जिसकी वे हकदार हैं. अगर हम उनके साथ इसलिए भेदभाव करना शुरू कर देते हैं कि वे एक विशेष बीमारी से पीड़ित हैं तो फिर यह स्वीकार्य नहीं है और मैं इसके लिए तब तक लड़ूंगा जब तक कि मैं जीवित हूं."

अपने बारे में उन्होंने बताया कि वह आज तपेदिक से मुक्त हैं, क्योंकि इस बीमारी का सही समय पर पता चल गया और उनका सही समय पर इलाज हो गया. 

Image Credit: Instagram/Amitabh Bachchan
They say the best things in life are free! India’s favourite music channels 9XM, 9X Jalwa, 9X Jhakaas, 9X Tashan, 9XO are available Free-To-Air.  Make a request for these channels from your Cable, DTH or HITS operator.
Advertisement
  • Trending
  • Photos
  • Quickies