माधुरी दीक्षित के सबसे हिट गानों पर जाने कुछ अनसुनी बातें वो भी उन्ही की जुबानी

माधुरी दीक्षित ने फिल्म इंडस्ट्री को एक बढ़कर एक गाने दिए है लेकिन अब इन गानों से जुड़ी कुछ अहम बातें भी जान लीजिए जिसे माधुरी ने खास जलवा सुपरस्टार से शेयर किया

282 Reads |  

माधुरी दीक्षित के सबसे हिट गानों पर जाने कुछ अनसुनी बातें वो भी उन्ही की जुबानी

चने के खेत में (अंजाम, 1994): जब मैंने निर्देशक राहुल रावल के साथ काम करना शुरू किया, तो उन्होंने मुझे और सरोज खान को एक गीत सुनाया. मैंने और सरोज जी ने गाना सुना  और हमने एक-दूसरे को देखा. हम दोनों को वो सॉग इतना पसंद नहीं आया. लेकिन राहुल जी को यह कौन कहता? आखिरकार, वो उन दिनों बहुत सख्त निर्देशक के तौर पर जाने जाते थे. लेकिन फिर मैंने उनसे कहा कि हमें वो गीत उतना पसंद नहीं आया. वो बहुत स्वीट थे उन्होंने दूसरा गीत सुनाया वो गाना था चने के खेत में. जब हमने उस गीत को सुना, तो सरोज जी और मैं दोनों खुश हो गए. क्योंकि हम जानते थे कि इस गाने पर काम किया जा सकता है.

धक धक करने लगा (बेटा, 1992): ये गाना फिल्म के खत्म होने के बाद जोड़ा गया था. इंद्र कुमार एक गीत चाहते थे जो फिल्म को उठा ले. जिसके बाद उन्हें ये गाना धक धक करने लगा मिला. लेकिन तब तक मैंने डेट दूसरे को दे दी थी. लेकिन ये गाना खास था इसलिए मुझे डबल शिफ्ट में आकर इस गाने को करना पड़ा. मैं दिन में दूसरी फिल्म के लिए शूट करती थी फिर शाम को 7 बजे धक धक के लिए शूट करती थी. जिसके बाद हम 2 बजे तक शूट करते थे. इस गाने के लिए सेट को पूरी तरह से बदल दिया गया था.  

माई नी माई (हम आप हैं कौन 1994): यह मेरे लिए एक बहुत ही खास गीत है क्योंकि यह हम आप हैं कौन से था! यह एक मां को समर्पित गाना था. जब भी मैं यह गीत सुनती हूं, मां के रूप में रीमा लागू हमेशा मेरी यादों में रहती है.

चोली के पीछे (खलनायक, 1993): यह एक ऐसा गीत था जिसके लिए बहुत सारे डांस प्रैक्टिस की जरूरत थी. इसमें फोक के साथ शास्त्रीय नच की जरुरत थी. एक बार हमने इसे सुना और हम इससे बंध से गए. हालंकि गाने के लिरिक्स के कारण ये थोड़ा विवादों में फंस गया. लेकिन जब फिल्म रिलीज हुई और लोगों ने गाने को देखा, तो इसे इतनी प्रशंसा मिली कि मैं समझा नहीं सकती. लोग आज भी उस गाने पर डांस करते हैं.

एक दो तीन (तेज़ाब, 1988): ये मेरा हमेशा पसंदीदा गीत रहेगा क्योंकि इस गाने ने मुझे एक पहचान दी थी. मैंने पहले भी सरोज खान के साथ काम किया था, लेकिन वे गाने सभी क्लासिकल थे. यह पहली बार था जब हम एक ऐसे गीत में एक साथ काम कर रहे थे जो कमर्शियल था. सरोज जी ने मुझसे खासकर के कहा कि मुझे इस गाने के लिए प्रैक्टिस करना पड़ेगा. इसके लिए मैं भी पूरी तरह से तैयार थी. गाने की शुरुआत में लोग मोहिनी मोहिनी मोहिनी चिलाते हैं मुझे आज भी कई लोग उस नाम से बुलाते हैं. 

मेरा पिया घर आया (याराना, 1995):  इस गाने के कारण लोग मुझे चिढ़ाते हैं. इस गाने में 'रामजी' काफी बार कहा गया है लोग कहते हैं कि आपने काफी बार रामजी- रामजी कहा है इसलिए आपको राम नाम का पति मिला. 

Advertisement
Advertisement
  • Trending
  • Photos
  • Quickies