जहां हर कोई इंग्लिश के पीछे भाग रहा है वहीं पंकज त्रिपाठी हिंदी भाषा को बढ़ावा देना अपना कर्त्तव्य समझते हैं

आज के दौर में जहां हर कोई अंग्रेजी के पीछे भाग रहा है वहीं अभिनेता पंकज त्रिपाठी का कहना है कि हिंदी सिनेमा का कलाकार होने के नाते हिंदी भाषा को बढ़ावा देना उनका कर्तव्य है

537 Reads |  

जहां हर कोई इंग्लिश के पीछे भाग रहा है वहीं पंकज त्रिपाठी हिंदी भाषा को बढ़ावा देना अपना कर्त्तव्य समझते हैं

बॉलीवुड एक्टर पंकज त्रिपाठी कई फिल्मों में अपनी एक्टिंग का लोहा मनवा चुके हैं और लोगों को वो खूब पसंद आ रहे हैं. सेक्रेड गेम्स में भी उनकी झलक दिखाई थी. और फैन्स इस वेब सीरीज के दूसरे हिस्से में उन्हें देखने के लिए बेकरार हैं. पंकज त्रिपाठी वेब सीरीज मिर्जापुर में भी नज़र आएंगे जिसकी चर्चा इन दिनों खूब है. आज के दौर में जहां हर कोई अंग्रेजी के पीछे भाग रहा है वहीं अभिनेता पंकज त्रिपाठी का कहना है कि हिंदी सिनेमा का कलाकार होने के नाते हिंदी भाषा को बढ़ावा देना उनका कर्तव्य है. 

पंकज ने कहा, "भारत का एक जिम्मेदार नागरिक होने और हिंदी माध्यमिक विद्यालय से आने के नाते मेरा मानना है कि सही हिंदी सिखाना मेरी जिम्मेदारी और कर्तव्य है. शकीला की बायोपिक की शूटिंग करते समय मेरे निदेशक इंद्रजीत लंकेश ने मुझसे उनके साथ हिंदी में बात करने के लिए कहा, जिससे उनकी हिंदी में सुधार हो सके."

उन्होंने कहा, "आम तौर पर, मैं संवाद करते समय आम हिंदी शब्दों का उपयोग नहीं करता हूं. मैं सेट पर थोड़ा मुश्किल हिंदी शब्दों का उपयोग करता हूं. क्रू मेंबर अक्सर मुझसे उन हिंदी शब्दों का अर्थ पूछते थे. वे नए हिंदी शब्दों का अर्थ जानने के लिए उत्साहित थे. शकीला बायोपिक के सेट पर बेंगलुरू की टीम के साथ बातचीत करना मुश्किल नहीं था. मैं हिंदी सिनेमा का अभिनेता हूं, हिंदी भाषा को बढ़ावा देना मेरा कर्तव्य है." यह फिल्म दक्षिण भारतीय अभिनेत्री शकीला पर आधारित है.

आईएएनएस से इनपुट लेकर

Advertisement
Advertisement
  • Trending
  • Photos
  • Quickies