गृहलक्ष्मी मैगजीन के कवर विवाद पर बोली दिव्यंका, महिलाओं का स्तन नवजात को फीड कराने के लिए होता है

फेमस मैगजीन के कवर पेज पर मलयालम एक्ट्रेस गिलु जोसेफ की तस्वीर छपी है जिसमें वो नवजात को स्तनपान करा रही हैं. जिसके बाद इस तस्वीर को लेकर विवाद खड़ा हो गया. ऐसे में अब टीवी की नामी एक्ट्रेस दिव्यांका त्रि‍पाठी ने भी अपनी राय रखी है.

21 जुलाई को केरल हाईकोर्ट ने पॉपुलर मलयालम मैगजीन 'गृहलक्ष्मीके कवर पेज पर छपी एक तस्वीर को लेकर हुए विवाद केस को खारिज कर दिया. दरअसल फेमस मैगजीन के कवर पेज पर मलयालम एक्ट्रेस गिलु जोसेफ की तस्वीर छपी है जिसमें वो नवजात को स्तनपान करा रही हैं. अब इस मैगजीन के कवर को लेकर छि‍ड़े विवाद पर टीवी की पॉपुलर एक्ट्रेस दिव्यांका त्रि‍पाठी ने भी अपनी राय रखी है. दिव्यांका त्रिपाठी ने स्पॉटबॉय से बात करते हुए कहा- मैं केरल कोर्ट के फैसले के साथ हूं, मैं गृहलक्ष्मी और गिलू जोसेफ की भी तारीफ करना चाहूंगी. यह एक बोल्ड और बहुत आवश्यक कदम था. मेरे कई दोस्तों और रिश्तेदारों को मैंने हमेशा बच्चों को पब्लिक प्लेस में स्तनपान करवाने को लेकर परेशान होते देखा है. हमारे देश में पब्लिक प्लेस पर औरतों को अपने बच्चों को स्तनपान कराने के लिए कोई प्रावधान नहीं दिया गया है. मुझे लगता है कि प्रोटेस्ट करने वाले को इसी एनर्जी के साथ उन मांओं के हक और सही सुविधा के लिए आवाज उठानी चाहिए.

दिव्यांका ने आगे कहा, एक मां आखिरकार मां है. बच्चे को स्तनपान कराने में कोई भी अश्लीलता नहीं होती. एक नवजात को जब भूख लगती है तो उसे फीड करना जरूरी होता है. सभी मांओं को ऐसा करना चाहिए क्योंकि यही उनके बच्चे के लिए अच्छा है.'

BREASTFEEDING MODEL


विनोद मैथ्यू विल्सन नाम के वकील कोर्ट गए जहां उनका तर्क था कि मैगजीन पर छपी तस्वीर अश्लील और अपमानजनक है. जिसके बाद से ही ये पूरा विवाद तूल पकड़ा.

Divyanka Tripathi


इसके आगे दिव्यंका का कहना है कि औरतों के स्तन बच्चों फीड करने के लिए होते है लेकिन पुरुषों के स्तन सामान्य रूप से अल्पविकसित रहते हैं. इसे बुरी नजर से ना देखा जाए. एक औरत को एक औरत रहने दे. जज करना बंद करें और उनका सम्मान करें. 

RELATED NEWS